अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
10.15.2016


माँ

"क्या हुआ ...लडका या लडकी ..."

"लडका... या ...लडकी .. .मुझे क्या पता"

"वाह...तुम्हें ही नहीं पता .. . फिर जन्म किसको दिया।’’

"जन्म... . जन्म तो मैंने एक संतान को दिया... .दुनिया की निगाह में वह लडका या लडकी हो सकता है। मेरे लिए तो मेरे कलेजे का टुकडा मात्र है...मेरा संतान . ..नौ महीने में एक बार भी नहीं सोचा कि क्या लिंग होगा .. .हाँ यह सोच सोच के रोमांचित ज़रूर होती रही कि "मॉ’ कहने वाला आ रहा है।"


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें