अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
04.23.2008
 

विश्व पुस्तक मेला
डॉ. कैलाश वाजपेयी


एक साथ इतनी ज्ञान राशि
देखकर
रो पड़ा मेरा मन
पहले पहल जिस जंगल में
जन्मा होगा
यह काव्य
यह चिंतन
संज्ञान, सार, भूमिका
वहाँ अब रेत ही रेत है।

उम्र के इस पायदान पर
क्यों रोया मैं?
क्या हर किताब, वध किए वृक्ष का
प्रेत है इसलिए
या फिर यह सोचकर
शब्दों के आक्षितिज फैले
साम्राज्य में
मैं रिरियायकर मर जाऊँगा अन्ततः
उस बच्चे की तरह
जिसके पूर्वज
वाग्येयकार थे


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें