अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
04.23.2008
 

गेहूँ
डॉ. कैलाश वाजपेयी


ओ मेरे जन्मदाता
मैं हरा गेहूँ
दूध भरा
मेरी यह विनती है
जब मैं थक जाऊँ
और बने रोटी यह मेरी काया
मैं किसी शराबी
अघाये अय्याश की
आँत में न जाऊँ
किसी फटेहाल थके
पेट की जलती भट्टी में
स्वाहा होता हुआ
तृप्ति की धुन गुनगुनाऊँ
वही मोक्ष सही
मोक्ष होगा
मेरे सुनहरे विकास का।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें