डॉ. कैलाश वाजपेयी


कविता

कटे पेड़ के पास
गेहूँ
गैया
तकलीफ़
फ़ना / निर्वाण
विश्व पुस्तक मेला
शिवजी से ज़रा पूछिए