अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
10.01.2007
 
औकात
के.पी. सक्सेना ’दूसरे’

 

 शादी के पच्चीस बरस बाद जब बेटी के विवाह का समय आ गया है, तब अचानक तुझे अलग होने की यह क्या सूझी है?

 अभी पिछले हफ़्ते ही तो तूने बताया था कि समाचार-पत्र में मेट्रोमोनियल देने के लिए उससे कहा है और यह कह कर छेड़ा भी था कि जल्दी करो वर्ना बेटी भी कहीं अपने माँ-बाप की तरह किसी विधर्मी से शादी रचाकर आशीर्वाद लेने न चली आए। चुप देखकर सहेली ने उसे उकसाया।

इस बार उसने अपना सर उठाया और आग्नेय नेत्रों से सहेली की ओर देखते हुए, व्यंग्यात्मक लहजे से बोली- हाँ! कल ही तो वैवाहिकी में छपा है।

 तो! सहेली उसके लहजे का आशय न समझ पायी।

तो क्या! जनाब को बेटी के लिए  एक स्वजातीय वर की तलाश है। अब उसका स्वर जरा और तीखा हो गया था - ये नहीं लिखा कि माँ की या बाप की! उस समय तो जाति-धर्म सब पुरानपंथी बातें थीं..... इंसानों के बीच भेदभाव बनाए रखने की कठमुल्लई साज़िश! अब क्या हुआ? बात जब बेटी की आयी तो.... आ गए औकात पर।



अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें