अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.04.2008
 

गुर्दा
कृष्ण कुमार यादव


निकाल लिया है उन्होंने
उसका एक गुर्दा धोखे से
उस बेरोजगार ने भी
चंद पैसों के लालच में
लगा दी अपनी जिंदगी दाँव पर
पर उसका क्या कसूर ?
वह तो व्यवस्था का मारा हुआ है
पर उस संभ्रान्त और सुशिक्षित डॉक्टर का क्या
जिसे दूसरा भगवान माना जाता है
और जिसने एक अमीर
की जान बचाने के लिये
एक गरीब की जिन्दगी
दाँव पर लगा दी।
न जाने रोज कितनी ऐसी घटनायें
सुनने को मिलती हैं
कभी पैसे के अभाव में
किसी गरीब का दम तोड़ देना
कभी चंद पैसों की आड़ में
नवजात शिशु को बेच देना
और कभी कानूनी प्रक्रियाओं में
भटकाये जाते आम जन
पर फिर भी गरीब आदमी
मानता है उन्हें दूसरा भगवान।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें