अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.04.2008
 

फाइलें
कृष्ण कुमार यादव


हर अधिकारी की मेज पर
लगा रहता फाइलों का अंबार
कभी-कभी तो फाइलों के बीच
साहब का चेहरा तक देखना
मुश्किल हो जाता
औपचारिकताओं और आपत्तियों के बीच
जूझती फाइलें
पर उन फाइलों में कैद
व्यक्तियों की दास्तां का क्या ?
बाबू से लेकर अधिकारी तक
हर किसी ने उनकी दास्तां को
फाइल पर लगे नम्बरों में
कैद कर दिया है
शायद उनका वश चले तो
हर व्यक्ति के चेहरे पर भी
एक नम्बर चस्पा कर दें
फाइलों व नम्बरों के इस खेल में
न जाने कितनों का भाग्य घुटता है
पर बाबू और अधिकारी
अपनी धीमी रफ्तार से
फाइलों को सरकाते रहते हैं
इसीलिये कभी-कभी
फाइलों में कैद व्यक्ति को
दीमक भी चाटने से बाज नहीं आता
शायद हर दफ्तर में है
फाइलों की यही दास्तां।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें