अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.01.2008
 

सर्कस
कृष्ण कुमार यादव


सर्कस आया, सर्कस आया
हाथी, घोड़े भालू लाया
देखो साथ में बन्दर आया
पिंजरे में से शेर गुर्राया
गैण्डा चलता अपनी चाल
जोकर करते खूब धमाल
हाथी दादा ने की बैटिंग
बन्दर ने ले लिया कैच
हँस कर बोले सारे जोकर
पहले से था फिक्स मैच।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें