अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
02.13.2009
 

बिखरते शब्द
कृष्ण कुमार यादव


शंकर जी के डमरू से
निकले डम-डम अपरम्पार
शब्दों का अनंत संसार
शब्द हैं तो सृजन है
साहित्य है, संस्कृति है
पर लगता है
शब्द को लग गई
किसी की बुरी नज़र
बार-बार सोचता हूँ
लगा दें एक काला टीका
शब्द के माथे पर

उत्तर संरचनावाद और
विखंडनवाद के इस दौर में
शब्द बिखर रहे हैं
हावी होने लगा है
उन पर उपभोक्तावाद
शब्दों की जगह
अब शोरगुल हावी है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें