अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
04.29.2014


स्पर्श

रात्रि के हल्के स्पर्श से
झुका के माथ
पौधा सो गया
मानो कोई अनाथ !
सपने में लिये
माँ का हाथ|


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें