अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
04.29.2014


सीलन

छतें भी वो ही
अश्रु बहाती हैं
जहाँ रहने वालों की
आँखों में
किरकिरी हो
ग़रीबी की


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें