अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.20.2014


पिता

तुम कभी हो
विस्तृत आकाश से,
कभी लगते
एक दिव्य प्रकाश।
माना तन में
कोई कोख नहीं है
मन में किया
एक गर्भ-धारण
अपना अंग
स्वेद से सींचते हो।
शिशु के संग
दिवसावसान में
करते क्रीड़ा,
कल्पवृक्ष से तुम
हरते पीड़ा।
तेरा अनन्त ऋण
युग भी बीते
कोई चुका ना पाए,
आज पिताजी
बहुत याद आए,
उस तारे से
झाँकते मेरा घर
आशीर्वाद देकर।

(छंद - चोका)


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें