अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.01.2016


हरसिंगार
(हाइकु)

 1.
बड़ा बेज़ार
रो रहा था सुबह
हरसिंगार।
2.
ओ परिजात
क्या घटा कल रात
सुबह झरा।
3.
हर-सिंगार
भोर में पतझर
रात्रि बहार।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें