अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.01.2016


गुलाब

1.
श्वेत–गुलाब
लिये है शांत मन
है अरिहंत।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें