अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
04.29.2014


दस्तक़

बड़ा अजीब
यह शहर लगता है
यहाँ तो लोगों को
दरवाज़ों की दस्तक़ों से भी
डर लगता है!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें