अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
04.29.2014


भेदभाव

ये आँसू भी
भेदभाव करें
अपनों के लिए अतिवृष्टि
ग़ैरों के लिए आँखों को
सूखा गाँव करें!!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें