जुनैद चौधरी "अकिंचन"

कविता
क्योंकि तू युवा है