अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.31.2016


तीर्थयात्रा

केवल एक बार
गया था मैं
सबसे सीधे-सरल आदमी के घर
सबसे टेढ़े-मेढ़े रास्ते से
गिरते-पड़ते
और
फिर कभी नहीं लौटा
सबसे अधिक होशियार और चालाक लोगों वाली
अपनी बस्ती में।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें