अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.24.2015


जीत

पतंग के कटने से पहले ही
लूटी जा चुकी धागा-चकरी
हार गया हूँ आज
जो कभी न हारा था
लेकिन
मन तो मन है
धागा-चकरी घूम रहा
एक महीन तागा अन्तहीन
सरकता ही जाता है
नीलिमा में
एक टुकड़ा चटक लाल
कभी नीचे कभी ऊपर
कभी गोल-गोल चक्कर में
ऐंचता-खैंचता
उड़ता ही रहता है
जीत और किसे कहते हैं
कि मन उड़ता ही रहे
बिन धागा-चकरी के


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें