अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.24.2015


एक अदद घर

जबमाँ –
नींव की तरह बिछ जाती है
पिता –
तने रहते हैं हरदम छत बनकर
भाई सभी –
उठा लेते हैं स्तम्भों के मानिंद
बहन –
हवा और अंजोर बटोर लेती है जैसे झरोखा
बहुएँ –
मौसमी आघात से बचाने तब्दील हो जाती है दीवाल में

तब
नयी पीढ़ी के बच्चे -
खिलखिला उठते हैं आँगन-सा
आँगन में खिले किसी बारहमासी फूल-सा
तभी गमक-गमक उठता है
एक अदद घर
समूचे पड़ोस में
सारी गलियों में
सारे गाँव में
पूरी पृथ्वी में


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें