अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.23.2016


होली

होली रे होली,
  रंगों की गोली,
    लाल, हरी,
      नीली,पीली,
        रंगों की झड़ी,
           मार पिचकारी,
             अरे पकड़ी गई।

   होली रे होली...
    देख वो पड़ोसी,
      आई चाची मामी,
        मुख पे मली,
          अरे गुलाल की लाली।

   होली रे होली...
    हुड़दंग मचाए,
       बस्ती में सारे,
         रोके न रुके,
           अरे आज हम सारे।
             होली रे होली....


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें