अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
03.02.2012
 

सत्यवादी 
जसबीर कालरवि


वह जब भी चीख़ता था
मुँह में चीख़ता था
और जब भी रोता
दिल की अन्दरूनी तहों तक रोता....।

उसकी आँखों की उदासी में
बेचैनी भी थी
और बीती रात का सपना भी
जो रात भर उसके साथ
धीरे-धीरे खेलता रहता...।

उसके मुँह में कुछ अनकहे बोल थे
जो उसके अपने ख़ून से लथ-पथ थे
पर वह जी रहा था
अपनी ख़ामोशी की क़त्लगाह में
जहाँ और कोई भी नहीं था
वह आप भी नहीं...।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें