अंन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख्य पृष्ठ

08.05.2007

 
परिचय  
 
नाम :

जयनंदन

जन्म : 26 फरवरी, 1956 को नवादा (बिहार) के मिलकी गाँव में।
शिक्षा :  एम.ए. (हिन्दी)
रचनायें :        पहली कहानी आगरा की एक पत्रिका युवक में 1981में। किसी बहुप्रसारित और प्रतिष्ठित पत्रिका में पहली कहानी सारिका में 1983 में। इसके बाद धर्मयुग, रविवार गंगा, कादम्बिनी, सारिका, हंस, पहल, वर्तमान साहित्य, इन्द्रप्रस्थ भारती, इंडिया टुडे, आउटलुक, कथादेश, सबरंग, अक्षरा, अक्षरपर्व, आजकल, कथाबिंब, कथाक्रम, पलप्रतिपल, अमर उजाला, राजस्थान पत्रिका, लोकमत, सहारा समय, जनसत्ता, हिन्दुस्तान, पुनर्नवा, स्वाधीनता, मित्र, ज्ञानोदय, वसुधा, अन्यथा, वागर्थ आदि विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में लगभग सौ कहानियाँ प्रकाशित।
       नाटकों का दिल्ली, देहरादून, इलाहाबाद, पटना, राँची, नागपुर, जमशेदपुर आदि शहरों में कई-कई मंचन। आकाशवाणी और दूरदर्शन के कई चैनलों पर नाटक और कहानी के रूपातरणों का प्रसारण।
अब तक कुल बारह पुस्तकें प्रकाशित। "श्रम एव जयते, ऐसी नगरिया में केहि विधि रहना, सल्तनत को सुनों गाँववालो (तीनों उपन्यास), सन्नाटा भंग, विश्व बाजार का ऊँट, एक अकेले गान्ही जी, कस्तूरी पहचानो वत्स, दाल नहीं गलेगी अब, घर फूँक तमाशा, सूखते स्रोत, (सातों कहानी-संग्रह), नेपथ्य का मदारी तथा हमला (दोनों नाटक)। एक कहानी संग्रह और एक नाटक शीघ्र प्रकाश्य।
       दर्जनों महत्वपूर्ण संकलनों एवं विशेषाकों में कहानियाँ संकलित तथा उनका अंग्रेजी, स्पैनिश, फ्रेंच, जर्मन, नेपाली, तेलगु, गुजराती, उर्दू, पंजाबी आदि भाषाओं में अनुवाद।
     अखबारों में वैचारिक लेख एवं थोड़े-थोड़े समय के लिए स्तम्भ लेखन।
    उपन्यास श्रम एव जयते पर जे.एन.यू. से तथा सल्तनत को सुनों गाँववालो पर कुरुक्षेत्र से छात्रों द्वारा एम.फिल.।
पुरस्कार : 1984 में डॉ. शिवकुमार नारायण स्मृति पुरस्कार।
1990 में बिहार सरकार राजभाषा विभाग द्वारा नवलेखन पुरस्कार।
1991 में भारतीय ज्ञानपीठ द्वारा युवा पीढ़ी प्रकाशन योजना के तहत सर्वश्रेष्ठ चयन के आधार पर उपन्यास श्रम एव जयते का चयन और प्रकाशन।
कृष्ण प्रताप स्मृति कहानी प्रतियोगिता (वर्तमान साहित्य), कथा भाषा प्रतियोगिता तथा कादम्बिनी अ.भा. कहानी प्रतियोगिता में कई बार कई कहानियाँ पुरस्कृत।
1993 में सिंहभूमि जिला हिन्दी साहित्य सम्मेलन सम्मान।
1995 में जगतबंधु सेवा सदन पुस्तकालय सम्मान।
2001 में पूर्णिया पाठक मंच सम्मान।
2002 में 21वां राधाकृष्ण पुरस्कार। (रांची एक्सप्रेस द्वारा)।
2005 का विजय शर्मा कथा सम्मान (मुंबई)
 
संप्रति: टाटा स्टील की गृह पत्रिका टिस्को समाचार, खास बात और तालमेल का संपादन।
सम्पर्क : jkumar@lot.tatasteel.com