अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.13.2008
 

मैं ही रही मैं
(सबूत क्यों चाहिए)
इन्दु जैन
प्रेषक : रेखा सेठी


चिड़िया जब बोलती है
                 पुकारती है
मैंने कहा – गाती है
चिड़िया ने नहीं......

उँची डाल पर बैठी
हिल रही चिड़िया
गर्दन घुमाती
मैंने कहा – झूलती है
चिड़िया ने नहीं......
दाना कहाँ है?

उँची उड़ान भर रही चिड़िया
देख रही खिड़की से मैं
मैंने कहा – आज़ाद है चिड़िया
चिड़िया ने नहीं......
नहीं देखा मैंने
पीछा करता अदृश्य।

वही देखा मैंने
जो दिखाया मेरी सीमा ने
उसका घोंसला
उसके बच्चे
और कभी
ज़मीन पर फूटे अंडे-
नहीं पाई मैं उसकी बोली
पंखों की थकी ककहरी।

अपने साथ रुलाती गाती रही उसे
मैं ही रही मैं
नहीं बनी चिड़िया
और न चिड़िया बनी मैं।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें