अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.11.2008
 

बीज
(यहाँ कुछ हुआ तो था)
इन्दु जैन
प्रेषक : रेखा सेठी


जो बीज
चिड़िया के पेट में
पक कर
निकलता है
मज़बूत जंगल उगाता है

मैं कमज़ोर कविताएँ
लिखना नहीं चाहती
मैं
अन्दर के धुँआते कबाड़ से
गर्मी पैदा कर
बीज पकाना चाहती हूँ
झंखाड़ नहीं
जंगल उगाना चाहती हूँ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें