इन्दु जैन


कविता

उठो
उदास लड़की
कविता
कितना
देख
नमी
बीज
मैं ही रही मैं
युद्ध में औरत
सम्भावना का सपना