अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
05.18.2012


तुम्हारी मुस्कान

तुम मुस्कुरा दो
तो मन पर छाया कोहरा
हट जाए।...

वरना बादल घिरते रहे हैं लगातार
जाने कब से
संशय के
अस्वीकृति के
और उससे उपजी
उदासी के!

तुम्हारी मुस्कान
इस सबके बीच
घिरे अंधियारे आसमान में
दामिनी की द्युति सी,

अंधेरे कमरे में
दीपक की लौ सी
चमकती है,

झरती है धार धार
बारिश की बूँदों सी
और मन,
नहा धोकर
स्वच्छ हो आता है!..


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें