हेमेन्द्र जर्मा


कविता

मुझको पास बुलाता है
खो गयी

मैं तुम्हें क्या दूँ?
समंदर