अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
02.26.2014
 

हर कोई कह रहा है दीवाना मुझे
हस्तीमल ’हस्ती’


हर कोई कह रहा है दीवाना मुझे
देर से समझेगा ये ज़माना मुझे

सर कटा कर भी सच से न बाज आऊँगा
चाहे जिस वक़्तन भी आज़माना मुझे

अपने पथराव से ख़ुद वो घायल हुआ
जिस किसी ने बनाया निशाना मुझे

जिसकी ख़ुशबू बढ़ाती हो आवारगी
वो ही मौसम लगे है सुहाना मुझे

नेमते इस तरह बाँटना हे ख़ुदा !
सबको दौलत मिले दोस्ताना मुझे

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें