अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
10.26.2016


आत्मबोध

मैं तो एक कण था
भ्रष्टाचार एक टन था
विश्‍वास नहीं मगर कम था
आगे बढ़ना मेरा धर्म था।

मैं तो एक कण था।

फिर इक हवा चली
बहुत सारे कणों को मेरी तरफ़ मोड़ दिया
मुझे हिमालय की तरह मजबूत जोड़ दिया
मुद्दा सिर्फ इस दुनिया से भ्रष्टाचार मिटाना था
भ्रष्टाचार का एक टन तोड़कर
हर एक कण को सच्चाई के रास्ते ले जाना था।

मैं तो एक कण था।

मुझसे जागी हैं उम्मीदें सबकी
सबकी बातों को निभाता था
नए रास्तों पर चलकर
सच्चाई को बढ़ाता था
नन्हे से छोटे बालक के दो शब्द थे मेरे लिए
सत्य, अहिंसा को मुझे अब बचाना था।

मैं तो एक कण था।

टूटना टन का इतना आसान नहीं था
मेरे पास भी कोई ऐसा सामान नहीं था।
मैं सत्य को झूठ से टकराता चला गया
मेरा तो ये धर्म था, जीतेंगे हम मेरा यही प्रण था।

मैं तो एक कण था।

कभी-कभी घबरा जाता था
पानी आँखों में आ जाता था
तब आकाश को जब देखता था
शायद वहाँ कोई देवता था
फिर वो कहा करता था
एक दिन सभी यहाँ आएँगे
ये टन छोटे-छोटे कणों में बदल जायेंगे
तो फिर घबराना किस बात का
ये तो सृष्टि का ही एक चलन था

मैं तो एक कण था।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें