अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.13.2017


एक नन्ही सी परी

मैं उपवन में अपनी धुन में
कर रहा था चहल क़दम,
रुक गया मैं सुन तोते सी,
एक आवाज़ तुरंत
व्याकुल होकर मैं मुड़ा जब,
कर अपनी आँखें बड़ी-बड़ी
श्वेत रंग में मैंने देखी
एक नन्ही सी परी।

मुँह और हाथ भरे थे उसके,
वसुंधरा की धूल से,
माली न जाने कहाँ थे,
उस नन्हें से फूल के,
भाल पे एक चमक थी उसके,
आँखें थी नीर से भरी-भरी
श्वेत रंग में मैंने देखी
एक नन्ही सी परी।

वो व्याकुल थी गोदी में
शायद आने को मेरी,
यही सोच उठा लिया प्यार से,
न कर मैंने देरी,
चारों ओर देखा और पाया,
न कोई मनु न उसकी छाया,
पायी मैंने भादों बेला में भी,
उस दिन पतझड़ की सी झड़ी
श्वेत रंग में मैंने देखी
एक नन्ही सी परी।

नाम जो पूछा उससे मैंने,
वो तो कुछ लगी और ही कहने,
समझ गया कि कुछ बात अलग है,
साधारण से ये हालात अलग है,
मैं उसे लगाकर सीने से अपने चिल्लाया-
किसकी है ये नन्ही परी?
श्वेत रंग में मैंने देखी
एक नन्ही सी परी।

मैं उस दिन उस उपवन में
पहरों - पहरों घूमा,
कभी-कभी रोने से रोका,
कभी उसका माथा चूमा,
मैं जब हार के बैठ गया,
उसके अपनों की मिलने की आस,
तब एक अल्हड़ सी महिला
आई, रोते रोते मेरे पास,
देख उसे नन्ही गुड़िया ने,
किया मुझे बाँहों से बरी
श्वेत रंग में मैंने देखी
एक नन्ही सी परी।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें