अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
पसीने की कमाई
हरि जोशी

प्रतिदिन की तरह उस दिन भी,
कोई फाइल उन्होंने आगे नहीं बढ़ायी,

किन्तु पसीना बदन से टपक रहा था,
क्योंकि पंखे बेजान थे,
गर्मी में भी बिजली, दिन भर नहीं आयी,

कार्यालय से उठते हुए व्यक्त किया संतोष,
आज अपने भाग्य में थी, पसीने की कमाई।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें