अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
08.21.2007
 
नैतिक मूल्य
हलीम ’आईना’

बरसों बाद,
स्कूल इंस्पेक्शन के लिए
जब इंस्पेक्टर आया
तो कक्षा में ऊँघ रहे
अध्यापक ने
तुरंत एक सवाल लिखाया
एक ग्वाले ने,
सिंथेटिक दूध में,
पचास प्रतिशत
पानी मिलाया,
जितने में लाया था
उतने में बेच आया,
बताओ कितना कमाया?
बनिये के एक छोकरे ने
फटाक से हाथ उठाया
’मज़ा आ गया सर!
फौकट में पचास परसेंट कमा लिया”
बीच में ही इंस्पेटटर चीखा
’गुरु !
आपने ये क्या किया?
मेरे देश का,
पचास परसेंट,
नैतिक मूल्य
गिरा दिया।’


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें