अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
08.21.2007
 
गुड़ गोबर
हलीम ’आईना’

 जब तक
दे का
प्रत्येक नागरिक
’व्यक्तिवाद’ के
गोबर को त्याग कर
’समाजवाद’ के
गुड़ को नहीं खायेगा
आजादी का
उज्ज्वल भविष्य
गुड़ गोबर
होता ही जायेगा ।

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें