अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
08.21.2007
 
एडवांस
हलीम ’आईना’

आज का
मियां मिठ्ठू आदमी
’भलाई’
भगवान के लिए
करता है,

’बुराई’
शैतान के
कांधे धरता है,

कितना
एडवांस है कम्बख़्‍त,
अपने को
सेफ रखता है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें