गुरमीत बेदी


व्यंग्य

काश ! हम कबूतरबाज होते.....