अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.05.2015


हाल

मैंने पाई है तुमसे सब ये दौलत भी ये शोहरत भी।
मगर छुटती नहीं मेरी ख़िलाफ़त भी ख़जालत भी।
(ख़जालत = शर्मिंदगी)

मिल जाये वो हक़ मेरा जो मिला नहीं तेरी ग़ल्ती,
हर अच्छे पे मुहर अपनी अजब है ऐसी आदत भी।

मतलब परस्त हूँ समझो मैं तुझ तक यूँ नहीं आता,
मेरा सजदा भी धोखा है है मतलब की इबादत भी।

जहाँ पे लगता है मुझको कि मिल जायेगा गोया तूँ,
वहीं पर छोड़ कर ढूँढूँ तो मिलेगी क्या इनायत भी।

हुआ है क्या मुझे 'अंजुम' मैं कई टुकड़ों बँट बैठा,
रफ़ाकत भी नज़ाकत भी हिराकत भी हिमाक़त भी।
(रफ़ाकत = अच्छी समझ)


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें