अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.10.2017


दुखियारी नदी

अपना दुःख बतलाने से पहले ही
मनमसोस कर रह जाती है, कि
जब लोग-
देश की ही क़द्र नहीं करते
तो फ़िर भला कौन-
उसकी क़द्र कौन करेगा?

(२)
नदी
महज इसलिए दुःखी नहीं है, कि
लोग उसमें कूड़ा डालते हैं
महिलाएँ गंदे कपड़े धोती हैं
और विसर्जित की जाती हैं
आदमकद प्रतिमाएँ
फ़ूलमालाएँ और न जाने क्या-क्या
वह दुःखी होती है
तो इस बात पर, कि
लोग यह जानना ही नहीं चाहते,कि
किस बात का दुःख है नदी को?
(३)
बैठकर नदी के किनारे
कितने ही ग्रंथ रच डाले थे
अनाम ऋषि-मुनियों ने।
नदी तो अब भी बह रही है-
जैसे कि कभी बहा करती थी
क्या कोई यह बता सकता है
आज किसने क्या लिखा -
कब लिखा और
कितना सार्थक लिखा?

(४)
नहीं जानती नदी
अपना जनम दिन
और न ही जानती वह
किसी तिथि और वार को जनमी थी वह।
वह तो केवल इतना भर जानती है,कि
उसे बहते ही रहना है-
हर हाल में।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें