अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.03.2007
 
पिघलकर पर्वतों से हमने ढल जाना नहीं सीखा
डॉ. गिरिराजशरण अग्रवाल

पिघलकर पर्वतों से हमने ढल जाना नहीं सीखा
न सीखा बर्फ़ बनकर हमने गल जाना, नहीं सीखा

वो राही, तुम सोचो किस तरह पहुँचेगा मंज़िल पर
जिसने ठोकरें खाकर सँभल जाना नहीं सीखा

हमें आता नहीं है मोम के आकार का बनना
ज़रा-सी आँच में हमने पिघल जाना नहीं सीखा

बदलते हैं, मगर यह देखकर कितना बदलना है
हवाओं की तरह हमने बदल जाना नहीं सीखा

सफ़र में हर क़दम हम काफ़िले के साथ हैं,
हमने सभी को छोड़कर आगे निकल जाना नहीं सीखा

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें