अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.03.2007
 
धूप बनकर फैल जाओ, चाँदनी बनकर जियो
डॉ. गिरिराजशरण अग्रवाल

धूप बनकर फैल जाओ, चाँदनी बनकर जियो
घुप अँधेरा छा न जाए, रोशनी बनकर जियो

फूल बन-बन कर बिखरती है, तपन देती नहीं
आग बनकर खाक जीना, फुलझड़ी बनकर जियो

आज तक जीते रहे हो, अपनी-अपनी ज़िंदगी
दोस्तो! इक-दूसरे की ज़िंदगी बनकर जियो

ओस की बूँदों में ढलकर तुम अगर बिखरे तो क्या
दूर तक बहती हुई शीतल नदी बनकर जियो

आदमी के रूप में पैदा हुए तो क्या हुआ?
बात तो तब है कि सचमुच आदमी बनकर जियो

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें