अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.20.2017


नए साल

जादुई पिटारा लेकर आओ नए साल
ग़म को भी ख़ुशियाँ बनाओ नए साल
स्वागत को हम खड़े लेकर यही आस
ख़्वाहिशों की झोली भर जाओ नए साल

पहलू एक सिक्के के हैं सुख-दुख दोनों
सुख बीते जल्दी दुख नहीं आसान
दिन रोशन करता दिनमान
रातों को पूनम बनाओ नए साल

मेहनत को दे दो भाग्य का साथ
कर्म करते बन जाएँ कीर्तिमान
सफलता की सीढ़ी चढ़े जहान
तरक़्कियों का श्रेय तुम पाओ नए साल

अमन चैन की राह चलें सब
प्यार ऐसा बरसाओ नए साल
जादू की टोपी में डालो कौवे सारे
शांति के कबूतर उड़ाओ नए साल


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें