गिरिजा अरोड़ा

कविता
इस लोक में
गॉड पार्टिकल
नए साल
रिश्तों के पुल
रीढ़
हँसते ही