अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
07.10.2014


सवाल

एक अनजान सा,
सवाल है,
मन में!
कि सवाल क्या है?

सवाल उठता है,
बार-बार!
कि सवाल क्या है?
जब दर्पण में,
निहारता है,
दिखने लगता है,
उल्टा
फिर पूछता है,
कोई!
कि सवाल क्या है?

कहीं तू वही तो नहीं,
तुझे जानता हूँ,
कई दिनो, कई महिनों,
कई सालों
या कई जन्मों से!
कि सवाल क्या है?

एक मासूम लड़की,
मौन है,
जैसे,
अनगिनत सवाल हों!
कि सवाल क्या है?

बार-बार ज़ेहन में
आता है,
फिर चला जाता है ,
आते वक्त याद,
नही आता,
जाते वक्त भूल जाता हूँ,
नब्बे वर्ष की बुजुर्ग,
कि तरह!
कि सवाल क्या है?

उलझन है,
बहुत से सवालों में,
कि हर पूछता है!
कि सवाल क्या है?
भूल के पूछने,
लगता हूँ
मैं भी! कि सवाल क्या है?


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें