डॉ. गौरव कक्कड़ वारिस


कविता

क्यूँ
ज़िन्दगी का सामना ...