अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.16.2017


मक्कार चोर धूर्त

मक्कार चोर धूर्त तथा बदचलन तमाम।
क्यों कर न कीजिये अब जेरे कफ़न तमाम॥

दाढ़ी बचा रही क़िबला अंजुमन तमाम।
हाथों में थाम उस्तरे फिरते बुज़न तमाम॥
बुज़न=कसाई

घोड़ा खड़ा हुआ है हुज़ूर देखिये जनाब।
कस-कर के जीन बैठ गये हैं विजन तमाम॥

पागल हो बादशाह वज़ीरों की क्या मजाल।
ख़ामोश ताकता हाँ बेचारा वतन तमाम॥

सूरत बड़ी भयानक आँखें थी ख़ौफ़नाक।
बेहोश इक नज़र में हुई अंजुमन तमाम॥

"हिन्दोस्ताँ" के नाम से जाना मैं जाऊँगा।
लिक्खा है भाग में मेरे सुन ले वतन तमाम॥


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें