अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.31.2008
 
चूहे की सालगिरा
डॉ. फ़रियाद "आज़र"

 
नीली टाई, पीला सूट
लम्बा टोपा,‏ नन्हे बूट
सब के दिल पर करता राज
सालगिरा चूहे की आज!

सब साथी तोहफ़ा लाये
बन्दर भालू भी आये
गीदड़ लाया है इक ताज
सालगिरा चूहे की आज!

रहने को दिलचस्प मकान
बिल्ली लाई चूहेदान
उल्लू करे तकसीम अनाज
सालगिरा चूहे की आज!

बन्दर ले आया पतलून
और लोमड़ी टेलीफ़ोन
कितना प्यारा है ये समाज
सालगिरा चूहे की आज!

कितनी प्यारी है ये रीत
खूब गधे ने गाया गीत
पूछ रहे सब लोग मिज़ाज
सालगिरा चूहे की आज!

चूहे ने जब काटा केक
सब लोगों ने खाया केक!

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें