अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.31.2008
 
बन्दर की निकली बारात!
डॉ. फ़रियाद "आज़र"


है कितनी दिलचस्प ये बात
बन्दर की निकली बारात!

अमरीकन टाई और सूट
तुर्की टोपी, रूसी बूट
सेहरे में गोभी के फूल
और कपड़ों में लिपटी धूल

सजते सजाते हो गई रात
बन्दर की निकली बारात!

भालू, गीदड़ और हाथी
सारा जंगल बाराती
खूब गधे ने गाया गीत
उस पर हाथी का संगीत

नाच रहे हैं उल्लू सात
बन्दर की निकली बारात!

जब पहुँची ससुराल बरात
बीत चुकी थी आधी रात
मेज़बान थे गुस्से में
कदरदान थे गुस्से में

मारी बन्दरिया ने इक लात
बन्दर की निकली बारात!

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें