अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.04.2008
 

क़दम
फ़ज़ल इमाम मल्लिक


पति की मौत के बाद अपना और अपने बच्चों का पेट पालने के लिए उसने एक दिन

घर से बाहर पाँव धरा..... आज बरसों बीत गए हैं..... उसके क़दम फिर घर को नहीं लौट पाए।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें