अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
03.19.2008
 

दुनिया
फ़ज़ल इमाम मल्लिक


उसने एक दिन पूरी दुनिया को मुट्ठियों में कैद करना चाहा..... लेकिन ऐसा हो नहीं पाया..... उसने कई बार कोशिश की लेकिन हर बार वह नाकाम रहा..... इस कोशिश में उसकी अपनी दुनिया भी मुट्ठियों से फिसल कर गुम हो गई।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें