दिवाकर


कविता

लहर
मैंने इक सपना देखा था